जिले के बारे में

सिवनी, आदिवासी परिवार वाहुल्य जिले का गठन वर्ष 1956 में किया गया था। जिले का नाम मुख्यालय टाउन सिवनी के अनुसार है। सिवनी नाम वेरोनाबल परिवार से संबंधित शब्द सियोना (या आर्बोरिया का गुदिना) वृक्ष से उत्पन्न हुआ, जो आमतौर पर इस क्षेत्र में पाया जाता था। इस पेड़ की लकड़ी विशेष रूप से ढोलक (ड्रम) बनाने के लिए उपयोग किया जाता था ।सिवनी जिला सतपुड़ा पठार के एक संकीर्ण, उत्तर-दक्षिण खंड पर स्थित है और अक्षांश 21 36 ′ और 22 57′ उत्तर और देशांतर 79 19 ′ और 80 17 देशांतर के बीच स्थित है। राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-7 (बनारस- कन्याकुमारी) जो उत्तर से दक्षिण तक जिले को जोड़ता है।

बैनगंगा:

लोगों द्वारा पूजा की जाने वाली सबसे स्वच्छ नदी में से एक बैनगंगा,जो कि सिवनी (ग्राम- मुढ़ारा) से उत्पन्न हुई थी। संजय सरोवर एशिया का सबसे बड़ा मिट्टी बांध सिवनी की जीवनरेखा है।यह बांध कृषि और पीने के लिए पानी का एक प्राथमिक स्रोत है।

पेंच राष्ट्रीय उद्यान:

पेंच राष्ट्रीय उद्यान जो टाइगर रिजर्व के अंतर्भाग में स्थित है,और मध्य भारत के प्राकृतिक इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। रूडयार्ड किपलिंग के जंगल बुक के प्रसिद्ध चरित्र “मोगली” द्वारा वन्यजीव पुस्तकों में इसकी वनस्पतियों और जीवों के विवरण दिखाई दिए हैं, जिसमें 37% हरे वन क्षेत्र वाले सिवनी की प्रकृति की बहुतायत का चित्रण शामिल है। सिवनी जिला लकड़ी और अन्य वन उपज से समृद्ध है।

  • सिवनी जिले का क्षेत्रफल 8758 वर्ग किमी है और जिले की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से महिला कार्य सहभागिता की एक अच्छी संख्या के साथ कृषि पर निर्भर है।
  • 2011 की जनगणना के अनुसार जिले की कुल जनसंख्या 13,79,131 है, जिसमें से 12,15,241 ग्रामीण आबादी और 1,63,890 शहरी आबादी है।
  • राज्य के औसत की तुलना में अनुसूचित जनजाति की आबादी 429104 अच्छे लिंगानुपात के साथ है।सिवनी जिले की पुरुष और महिला साक्षरता दर क्रमशः 72.1 प्रतिशत और 63.7 है।

एक नज़र में (जनगणना 2011 आधारित)

ग्रामो की संख्या परिवारों की संख्या जनसंख्या साक्षरता दर लिंगानुपात
1587 314215 1379131 72.12 982